तमिलनाडु के मुख्य सचिव ने कोयंबटूर में टॉप ऑफिसरों के साथ कानून व्यवस्था की समीक्षा की


शहर से कई घटनाओं की सूचना मिलने के बाद, अतिरिक्त बलों की तैनाती के साथ सुरक्षा बढ़ा दी.

कोयंबटूर:

तमिलनाडु के मुख्य सचिव वी. इरियनबु (V. Irianbu) ने शनिवार को शीर्ष अधिकारियों के साथ कोयंबटूर में कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की. पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के खिलाफ राज्य सहित देशभर में राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (NIA) की कार्रवाई के मद्देनजर कई स्थानों पर पेट्रोल बम फेंकने की पृष्ठभूमि में मुख्य सचिव ने कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की. डिंडुगुल और चेंगलपेट सहित विभिन्न जिलों में रात भर की घटनाओं में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के कार्यकर्ताओं और उनके समर्थकों की संपत्तियों को भी निशाना बनाये जाने की खबरें हैं.  शहर से कई घटनाओं की सूचना मिलने के बाद, अतिरिक्त बलों की तैनाती के साथ सुरक्षा बढ़ा दी गई थी. 

यह भी पढ़ें

शनिवार को इरियनबु ने कोयंबटूर के जिलाधिकारी जी. एस. समीरन, शहर के पुलिस आयुक्त वी. बालकृष्णन, पश्चिम क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) आर. सुधाकर और पुलिस अधीक्षक वी. बद्रीनारायण के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से स्थिति की समीक्षा की.  समीरन ने पत्रकारों से कहा कि मुख्य सचिव ने पिछले दो दिनों में हुई घटनाओं सहित सात घटनाओं के बारे में जिलाधिकारियों और 17 जिलों के शीर्ष पुलिस अधिकारियों के साथ स्थिति की समीक्षा की. उन्होंने कहा कि इन सात घटनाओं में कोई हताहत या संपत्ति का बड़ा नुकसान नहीं हुआ है, इसलिए नागरिकों को भयभीत होने की कोई जरूरत नहीं है. समीरन ने कहा कि प्रशासन और पुलिस विभाग ने मुस्लिम और हिंदू प्रतिनिधियों के साथ सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के प्रयास के तहत बैठकें आयोजित की हैं. 

दक्षिणपंथी संगठन के सदस्यों पर हमलों के सिलसिले में बदमाशों की गिरफ्तारी में देरी के सवाल पर बालकृष्णन ने कहा कि पुलिस ने कुछ अपराधियों की पहचान की है और कुछ दिनों में कार्रवाई की जाएगी.  उन्होंने कहा कि इन मामलों में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी.  उन्होंने कहा कि शहरभर में 3,500 पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है और पुलिस विभाग राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों और चौकियों पर लोगों की आवाजाही पर नजर रख रहा है, खासकर बाहर से आने वालों पर. समीरन ने कहा कि ऐसे लोगों पर नजर रखने और प्रशासन को सतर्क करने के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया है.  इस बीच, सहायक पुलिस आयुक्त (खुफिया) मुरुगावल का तबादला कर दिया गया है. 

चेन्नई में भाजपा की तमिलनाडु इकाई के अध्यक्ष के. अन्नामलाई ने आरोप लगाया कि पीएफआई के खिलाफ छापेमारी के बाद उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को बेवजह निशाना बनाया जा रहा है.  उन्होंने पूछा, ‘‘पुलिस क्या कर रही है. ”हमलों के पीछे पीएफआई का हाथ होने का संकेत देते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य ने राष्ट्रीय अखंडता के हित में संगठन के खिलाफ कार्रवाई की.  बाद में दिन में, अन्नामलाई ने कहा कि उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को तमिलनाडु में ‘‘बिगड़ती कानून व्यवस्था” की स्थिति पर एक पत्र लिखा है. 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *